कोरोना संकट - RBI गवर्नर का बड़ा एलान

समस्त विश्व की अर्थव्यवस्था खतरे में - लेकिन लोग न घबराएं
Published: Sat, 06 Jun 2020 : Reporter by/Photo: Share

Author: Khalid
Edited By: jyoti prakash

RBI गवर्नर ने सबसे पहले देश के नागरिको को यह भरोसा दिलाया कि आप सबका पैसा सुरक्षित है, लोग न घबराएं।  रेपो रेट में 0.75% की कटौती करी है। फैसले से 3.74 लाख करोड़ नकदी सिस्टम में आएगी। बैंको और वित्तीय संस्थाए से सभी प्रकार के लोन पर 3 महीने तक छूट देने की पेशकश करी है। 

क्या है रेपो रेट ?
रेपो रेट वह दर होती है जिस पर बैंकों को आरबीआई कर्ज देता है. बैंक इस कर्ज से ग्राहकों को ऋण देते हैं. रेपो रेट कम होने से मतलब है कि बैंक से मिलने वाले कई तरह के कर्ज सस्ते हो जाएंगे. जैसे कि होम लोन, व्हीकल लोन वगैरह.

क्या होता है रिवर्स  रेपो रेट ?
जैसा इसके नाम से ही साफ है, यह रेपो रेट से उलट होता है. यह वह दर होती है जिस पर बैंकों को उनकी ओर से आरबीआई में जमा धन पर ब्याज मिलता है. रिवर्स रेपो रेट बाजारों में नकदी की तरलता को नियंत्रित करने में काम आती है. बाजार में जब भी बहुत ज्यादा नकदी दिखाई देती है, आरबीआई रिवर्स रेपो रेट बढ़ा देता है, ताकि बैंक ज्यादा ब्याज कमाने के लिए अपनी रकमे उसके पास जमा करा दे.


Click Here for Allahabad News - Social Education Entertainment Crime and Health

Local News